“उम्र बढ़ाने वाला नया विटामिन” जो जीवन की अवधि, स्वास्थ्य और जवानी को बढ़ाने के लिए सिद्ध हो चुका है

08-30    

उम्र बढ़ने के संकेतों को उलट देता है… अंदर और बाहर दोनों तरफ से

हाल ही में किए गए 19 वैज्ञानिक अध्ययन और मानव कोशिका अध्ययन के पहले परिणाम से पता चलता है कि ह्यूमन बायोलॉजिकल साइकिल को रिवर्स किया जा सकता है

जिंदगी की कुछ ऐसी चीजें हैं जिसके बारे में हम कभी न कभी ज़रूर सोचते हैं, जैसे कि किसी भी बीमारी से मुक्त एक लंबी स्वस्थ जिंदगी जीना। यह विचार तब से चलता आ रहा है जब से मनुष्य का जन्म हुआ है। पूरे इतिहास में, यह रस्मों, संस्कारों और लोककथाओं को जन्म देता है। लेकिन अब और नहीं, नोवार्टिस फार्मास्युटिकल्स के पूर्व प्रिंसिपल इन्वेस्टिगेटर के अंतर्गत कार्य कर रहे एक ग्लोबल रिसर्च ग्रुप ने यह साबित कर दिया है कि यह भविष्य में वाकई मुमकिन हो सकता है। आठ वर्षों की रिसर्च और विकास के बाद, उन्होंने पाया कि एक ऐसा नेचुरल कंपाउंड है जो इंसान की उम्र को 11.51 से लेकर 31.03 प्रतिशत तक बढ़ा देता है, स्वास्थ्य को 338 प्रतिशत तक बढ़ाता है, इम्युनिटी में काफी सुधार करता है, और अंदर और बाहर दोनों तरफ से शरीर की उम्र बढ़ने के संकेतों को उलट देता है। जिसमें इंसानी दिमाग, दिल, लिवर और त्वचा शामिल है।

"उम्र बढ़ाने वाला विटामिन", जीवन और स्वास्थ्य का एक नया मॉलिक्यूल

इंसानी शरीर के लिए एक नया प्रोटीन ढूंढ़ना उतना ही मुश्किल है जितना कि एक नया प्लेनेट ढूंढ़ना। इसकी शोध लगभग कभी खत्म नहीं होती है। लेकिन साल 2005 में, वैज्ञानिकों ने एक नए मेम्ब्रेन-बाउंड ट्रांसपोर्ट प्रोटीन की खोज की। ट्रांसपोर्ट प्रोटीन आपके द्वारा खाए जाने वाले पोषक तत्वों को आपकी कोशिकाओं में बांटते हैं। लेकिन यह नया प्रोटीन ट्रांसपोर्ट असल में था क्या? इस सवाल का जवाब देने में दो साल और लगे। फिर एक घोषणा हुई: L-Ergothioneine।

इसके बारे में पता चलते ही वैज्ञानिक समुदाय में काफी चर्चा हुई। कुछ ही वर्षों के अंदर, L-Ergothioneine पर 320 से भी ज़्यादा अध्ययन किए गए। डॉ. जोसेफ इवांस, नोवार्टिस फार्मास्यूटिकल्स के पूर्व प्रिंसिपल इन्वेस्टिगेटर का कहना है कि: "हमारे शुरुआती प्रयोग में, हमें जीवन काल और स्वास्थ्य अवधि पर जो परिणाम मिला था वो बहुत जबरदस्त था, और कुछ हद तक समझ से बाहर भी था। लेकिन जब हमने प्रयोग को दोहराया, तो हमें बार-बार वही समान परिणाम मिलने लगे।"

सभी शोधकर्ताओं ने मिलकर इस मॉलिक्यूल को "दीर्घायु विटामिन" नाम दिया था। लेकिन इससे पहले कि यह नाम साइंटिफिक जर्नल्स में अपनी जगह बना सके, इसे पहले इंसानो पर आज़माया जाना ज़रूरी था, न कि सिर्फ पेट्री डिश पर।

पेट्री डिश से लेकर इंसानों तक का सफर

बेशक लेबोरेटरी में किए गए एक्सपेरिमेंट्स मायने रखते हैं, लेकिन टेस्ट ट्यूब से प्राप्त किए गए परिणामों में मनुष्यों से प्राप्त किए गए परिणामों के मुकाबले काफी बड़ा अंतर होता है। साल 2014 में, एक अभिनव बायोटेक कंपनी, NNB ग्लोबल रिसर्च एंड डेवलपमेंट ने 10 देशों में से 100 वैज्ञानिकों के एक समूह को इकट्ठा किया था। क्या आप जानते हैं कि उनके लक्ष्य क्या थे? 1) केवल लैब में ही नहीं, बल्कि वास्तविक मनुष्यों पर L-Ergothioneine के लाभों को साबित करना। 2) L-Ergothioneine के सही खुराक को निर्धारित करना, जिससे मनुष्यों को वास्तव में लाभ हो सके। 3) एक ऐसी मैन्युफैक्चरिंग टेक्नोलॉजी विकसित करना जो L-Ergothioneine को किफायती बना सके, क्योंकि पहले मात्र 32 औंस के लिए $800,000 खर्च करने पड़ते थे।

अब ठीक आठ साल बाद 2022 में, 19 ह्यूमन क्लीनिकल और ह्यूमन सेल्स स्टडीज, तीन पेटेंट, और बाकी के चार पेटेंट लंबित, यह "मिशन पूरा" हो चुका है। जिसके बारे में बस लोग आज तक सपना ही देखते थे, वो अब अचानक हकीकत बन चुका है। कंपाउंड का नाम MitoPrime है, जो कि एक सिद्ध "स्वास्थ्य और दीर्घायु विटामिन" है। "Mito" शब्द माइटोकॉन्ड्रिया (mitochondria) से लिया गया है, जो कि जीवन की अवधि, स्वास्थ्य की अवधि और हाँ, जवानी की अवधि को बढ़ाने में अहम भूमिका निभाता है।

ह्यूमन साइकोलॉजी का एक नया दौर

लेकिन ऐसी कौन सी बात है जो MitoPrime को ह्यूमन मॉलिक्यूलर बायोलॉजी की दुनिया में बेहद अनोखा बनाती है? यह ऐसा क्या कर सकता है जो पहले कभी मुमकिन नहीं था? यह आपके जीवन पर क्या असर डाल सकता है और इसके क्या परिणाम हो सकते हैं?

• MitoPrime पहला ऐसा मॉलिक्यूल है जो उम्र बढ़ाने, स्वास्थ्य और इम्युनिटी के सभी पहलुओं को सकारात्मक रूप से प्रभावित करने के लिए सही साबित हुआ है

• फार्मा-मॉडल स्टडीज में, MitoPrime के ज़रिए पहली बार ऐसा साबित किया गया कि जीवन की अवधि को 11 से लेकर 30 प्रतिशत तक बढ़ाया जा सकता है

• MitoPrime पूरी दुनिया में एकमात्र ऐसा कंपाउंड है जो जीवन के सभी चरणों में स्वास्थ्य, जोश और ऊर्जा को 338 प्रतिशत तक बढ़ा सकता है

• MitoPrime सबसे दूर तक पहुंचने वाला, सबसे गहराई तक जाने वाला, सबसे विस्तृत ओरल एंटीऑक्सीडेंट है।

• फलों और सब्जियों में इस्तेमाल किए जाने वाले पॉलीफेनोल्स के मुकाबले यह 10-15 गुना अधिक असरदार साबित हुआ हुआ।

• 35 से लेकर 55 साल की उम्र वाली महिलाओं पर किए गए क्लीनिकल ट्रायल का नतीजा यह निकला कि, MitoPrime की बदौलत उनकी त्वचा 10 से 20 साल जवान दिखने लगी।

• MitoPrime पहला और एकमात्र ऐसा कंपाउंड है जो आपके DNA और माइटोकॉन्ड्रिया सहित आपके पूरे जेनेटिक मेकअप की रक्षा कर सकता है और उसी समय उसे ठीक भी कर सकता है।

जब जुलाई 2022 में डॉ. इवांस का इंटरव्यू लिया गया था, तो उन्होंने कम शब्दों में इसका वर्णन करते हुए कहा था कि ... "MitoPrime आपके जींस के पॉजिटिव एक्शन्स को बढ़ाता है, आपकी लाइफस्टाइल (जीवन शैली) के नेगेटिव इफेक्ट को दूर करता है, और आपकी कोशिकाओं को मजबूत बनाकर वापस उन्हें जवान बनाने में मदद करता है। ऐसा वास्तव में पहली बार हुआ है।"

जाहिर सी बात है कि कुछ बुद्धिमान लोग जानना चाहेंगे कि यह सब कैसे मुमकिन है। यहां वैज्ञानिकों द्वारा सिद्ध किए गए तथ्य दिए गए हैं।

 

1) MitoPrime मनुष्य को ज्ञात होने वाला सबसे शक्तिशाली, विस्तृत, और फुल बॉडी ओरल एंटीऑक्सीडेंट है

आज की तारीख में, ज़्यादातर लोग मुक्त कणों (फ्री रेडिकल्स) के हानिकारक प्रभावों, उनसे होने वाले स्वास्थ के खतरों और ऑक्सीडेटिव को होने वाली क्षति के बारे में जानते हैं। फ्री रेडिकल्स (मुक्त कणों) त्वचा सहित आपके शरीर के हर अंग पर हमला करने में सक्षम हैं। इससे पता चलता है क्यों एंटीऑक्सिडेंट, या तो एक सिंगल प्रोडक्ट या डाइटरी फॉर्मूला के हिस्से के रूप में, स्टोर शेल्व्स में से चले जाते हैं। लेकिन जैसा कि डॉ इवांस बताते हैं, "इससे उपभोक्ताओं को सुरक्षा की झूठी तसल्ली मिलती है। बहुत कम लोग समझते हैं कि वे कितने कम एंटीऑक्सीडेंट शरीर में प्रवेश करते हैं, और वे कितने कम समय के लिए काम करते हैं।"

इसकी वजह क्या है?

समग्र रूप से देखा जाए तो एंटीऑक्सिडेंट्स की जैवउपलब्धता (बायो-अवेलेबिलिटी) इतनी अच्छी नहीं होती है। इसका मतलब है कि आप जो भी खाते हैं उसका बस एक छोटा सा हिस्सा ही आपके काम आता है। एक बार जब गट से होते हुए ब्लडसट्रीम में उनकी ट्रेचेरौस (treacherous) की यात्रा पूरी हो जाती है, तब उन्हें सेल बाधाओं से प्रतिरोध का सामना करना पड़ता है। और वहां हर एक बायोलॉजिकल चेक पॉइंट पर काफी नुकसान होता है।

उदाहरण के तौर पर, आप फल और सब्जियां में जो पॉलीफेनोल्स खाते हैं उनको देखें। असल में हकीकत यह है कि आपके द्वारा खाए गए हर 100 ग्राम में से, यह 10 ग्राम से भी कम अब्सॉर्ब होता है। बाकी की बची हुई मात्रा को आपके सिस्टम से बाहर निकाल दिया जाता है। दूसरी ओर, MitoPrime को 100% जैवउपलब्धता प्राप्त है। याद रखें कि MitoPrime एक अमीनो एसिड है, और अमीनो एसिड को हमेशा VIP ट्रीटमेंट मिलता है, कुछ ऐसा जो मुंह से लेकर सेल तक उसकी रक्षा करता है। वास्तव में, साल 2021 में मानव कोशिका पर किए गए एक अध्ययन से पता चलता है कि MitoPrime फलों और सब्जियों में पॉलीफेनोल्स के मुकाबले एंटीऑक्सिडेंट के रूप में 10 से 15 गुना अधिक असरदार था (नीचे देखें)।

अगर आप सोच रहे हैं कि GAE का क्या मतलब है, तो इसका मतलब गैलिक एसिड इक्विवेलेंट होता है। यह क्लीनिकल ​​सेटिंग्स में इस्तेमाल किए जाने वाला मेज़रमेंट यूनिट है जिससे वैज्ञानिकों को तरह-तरह के मॉलिक्यूल्स (अणुओं) के एंटीऑक्सीडेंट क्षमता की तुलना करने में मदद मिलती है।

मामले को और भी बदतर बनाने के लिए, एंटीऑक्सिडेंट का आधा जीवन (प्रभावकारिता का समय) 10 मिनट जितना छोटा हो सकता है। ऐसा ग्लूटाथियोन के साथ होता है, जिसे 'मास्टर एंटीऑक्सिडेंट' भी कहा जाता है। इसके विपरीत, MitoPrime का आधा जीवन 768 घंटो का होता है, जो कि आज तक ज्ञात होने वाले सभी ओरल एंटीऑक्सिडेंट में सबसे अधिक है। इससे MitoPrime को सबसे उच्चतम एंटीऑक्सीडेंट एफीकेसी रेटिंग (AER) मिलती है, एक ऐसा सिस्टम जिसे MitoPrime के शोधकर्ताओं द्वारा जैव उपलब्धता (बायो-अवेलेबिलिटी) और एक मीट्रिक में आधा जीवन दोनों में कारक बनाने के लिए तैयार किया है। एंटीऑक्सीडेंट्स की तुलना करने के लिए टेबल 1 और 2 देखें, जिनमें से आपने कइयों के बारे में सुना होगा, और कइयों का आपने इस्तेमाल भी किया होगा।

मुख्य शोधकर्ता का मानना है कि आदर्श रूप से,एंटीऑक्सीडेंट एफीकेसी रेटिंग 100 से अधिक होनी चाहिए। (टेबल 3 देखें)।

आप आसानी से देख सकते हैं कि फलों और सब्जियों में पौधे पर आधारित पॉलीफेनोल्स के मुकाबले Mitoprime का कितना बड़ा लाभ है। अगर आपके मन में यह ख्याल आ रहा है कि ओरल ग्लूटाथियोन की जैव उपलब्धता (बायो-अवेलेबिलिटी) इतनी कम क्यों है, तो तीन ऐसे करक हैं जो इसके खिलाफ कार्य कर रहे हैं: 1) ग्लूटाथियोन मॉलिक्यूल मनुष्यों द्वारा अब्सॉर्ब करने के लिए बहुत बड़ा है; 2) खाया गया ग्लूटाथियोन आंत (गट) में जाकर एंजाइमों द्वारा चबा लिया जाता है; 3) जो थोड़ा-बहुत वह अब्सॉर्ब होता है उसे जल्द ही एंजाइमों द्वारा रक्त में तोड़ दिया जाता है।

MitoPrime की एंटीऑक्सीडेंट क्षमता के बारे में एक आखिरी, लेकिन उतना ही महत्वपूर्ण शब्द।

आपके शरीर (और त्वचा) को आवश्यक एंटीऑक्सीडेंट दो तरह से मिलते हैं। पहले वे होते हैं जो आपको अपनी डाइट से मिलते हैं। दूसरे होते हैं एनडोजीनॉस एंटीऑक्सिडेंट, यानी कि वे आपके शरीर द्वारा बनाया गया एक प्राकृतिक हिस्सा है, और वे बाहरी स्रोतों पर निर्भर नहीं रहते हैं। सिर्फ और सिर्फ MitoPrime ही इन दोनों प्रकार के लेवल्स को बढ़ाने की काबिलियत रखता है।

आपकी त्वचा का सबसे शक्तिशाली डाइट एंटीऑक्सिडेंट होने के अलावा, MitoPrime सबसे महत्वपूर्ण एनडोजीनॉस एंटीऑक्सिडेंट, ग्लूटाथियोन के लेवल को बढ़ाने में मदद करता है। यह बेहद महत्वपूर्ण है, क्योंकि ग्लूटाथियोन अणु इतना बड़ा होता है कि कोई भी मनुष्य इसे पूरी तरह अब्सॉर्ब नहीं कर सकता है।

जून 2021 के मानव नैदानिक अध्ययन के दौरान पाया गया कि, MitoPrime, ग्लूटाथियोन के लेवल को 146 प्रतिशत तक बढ़ाने में कामयाब रहा। इसका महत्व और भी अधिक बढ़ जाता है जब आप समझते हैं कि उम्र बढ़ने की वजह से ग्लूटाथियोन का स्तर कम हो जाता है। जैसा कि डॉ. इवांस ने एक साइंटिफिक रिव्यु में बताया था कि, "MitoPrime (L-Ergothioneine) पहला और एकमात्र ऐसा कॉम्पोनेन्ट है जो ग्लूटाथियोन के स्तर को बढ़ाने की क्षमता रखता है। इसकी वृद्धि को देखते हुए, हम निश्चित हैं कि MitoPrime ग्लूटाथियोन के स्तर को दोबारा से जवानी के स्तर पर लेकर जा सकता है।"

इसके अलावा, अगस्त 2021 में किए गए एक अध्ययन ने साबित कर दिया कि MitoPrime शरीर के संपूर्ण एंटीऑक्सीडेंट जीन पैनल को सक्रिय करके इसे 421 प्रतिशत तक सुरक्षित रखता है। इससे आपके शरीर को फ्री रेडिकल्स (मुक्त कणों) के हानिकारक प्रभावों से पूर्ण सुरक्षा मिलती है। ध्यान रखें कि, ज़्यादातर "शॉर्ट-टर्म" एंटीऑक्सिडेंट के विपरीत, MitoPrime दिन के चौबीसों घंटे काम करता है (ऊपर दी गई टेबल 2 देखें)।

क्या आप अपने स्वास्थ्य, लंबी उम्र, ऊर्जा के स्तर और जीवन की गुणवत्ता के महत्व को देख पा रहे हैं?

 

शायद MitoPrime का सबसे बड़ा लाभ आपके जेनेटिक मटेरियल, जैसे कि आपका DNA, माइटोकॉन्ड्रिया और माइटोकॉन्ड्रियल DNA की सुरक्षा करने की क्षमता है। क्योंकि अब हम जानते हैं कि स्वास्थ्य और लंबी उम्र का प्रथम भविष्यवक्ता इन जीनोमिक एलिमेंट्स की स्थिति है।

आप अपने जीनोम को स्वस्थ कैसे रखते हैं?

आपके DNA को सबसे ज़्यादा खतरा दो विनाशकारी एसिड से होता है, जिनका नाम है, हाइपोब्रोमस एसिड और हाइपोक्लोरस एसिड। ये एक विशिष्ट, और अल्पज्ञात, प्रकार के फ्री रेडिकल्स (मुक्त कणों) का हिस्सा हैं जिन्हें "रिएक्टिव क्लोरीन स्पीसिस" कहा जाता है। रिएक्टिव ऑक्सीजन स्पीसिस और रिएक्टिव नाइट्रोजन स्पीसिस जैसे जाने-माने फ्री रेडिकल्स (मुक्त कणों) के विपरीत, रिएक्टिव क्लोरीन स्पीसिस के नुकसानदायक फ्री रेडिकल्स (मुक्त कणों) को ठीक करना बेहद मुश्किल है। जवानी के दौरान, शरीर में पर्याप्त डिफेंस मैकेनिज्म होता है जिस वजह से वह इन एसिड्स को दूर रख पाता है। लेकिन उम्र बढ़ने के बाद यह मुश्किल बन जाता है। यानि कि अब तक था।

MitoPrime उन चीजों में आपकी मदद कर सकता है जो आज से कुछ समय पहले मुमकिन ही नहीं थी। हाल ही में किए गए एक अध्ययन से पता चला है कि L-Ergothioneine DNA को नुकसान पहुंचाने वाले इन दोनों हानिकारक एसिड को सीधे इनके स्रोत पर ही खत्म कर देता है। L-Ergothioneine को "दीर्घायु विटामिन" नाम दिया गया है।

दिलचस्प बात यह है कि यह MitoPrime को एकमात्र ऐसा एंटीऑक्सीडेंट एजेंट बनाता है जो त्वचा के फ्री रेडिकल्स (मुक्त कणों) की सभी चार स्पीसिस को खत्म करने के काबिल है: रिएक्टिव ऑक्सीजन स्पीसिस (ROS), रिएक्टिव नाइट्रोजन स्पीसिस (RNS), रिएक्टिव क्लोरीन स्पीसिस (RCS), और इन्फ्लेमेशन इंडियुस्ड स्पीसिसप्रजातियां (IIS)।

लेकिन जो बात इससे भी ज़्यादा मायने रखती है वो है कि MitoPrime एकमात्र ऐसा एंटीऑक्सिडेंट है जो आपके सभी महत्वपूर्ण माइटोकॉन्ड्रिया और माइटोकॉन्ड्रियल DNA में प्रवेश करने और उनकी रक्षा करने में सक्षम है (हाँ, माइटोकॉन्ड्रिया का अपना DNA होता है)।

जैसा कि आपने अपने हाई स्कूल की बायोलॉजी क्लास में पढ़ा होगा कि माइटोकॉन्ड्रिया, आपके सेल्स के पावरहाउस हैं। आपका शरीर ठीक से काम कर सके, इसलिए वे सेल्स को 100% एनर्जी प्रदान करते हैं। लेकिन 21 साल की उम्र के बाद से माइटोकॉन्ड्रिया प्रभावित होने लगता है। तभी माइटोकॉन्ड्रियल की संख्या कम होने लगती है। यह आपकी दैनिक ऊर्जा और आपके शरीर को सही ढंग से कार्य करने के लिए आवश्यक ऊर्जा दोनों को कम कर देता है

MitoPrime अत्यधिक सकारात्मक प्रभाव प्रदान करता है

सितंबर 2021 के MitoPrime अध्ययन के परिणामों से पता चला है कि MitoPrime ने माइटोकॉन्ड्रियल की संख्या में पूर्ण 20 प्रतिशत (टेबल 4) की वृद्धि की है। जब आप जानेंगे कि माइटोकॉन्ड्रिया की संख्या में हर 1 प्रतिशत की वृद्धि होने से आपके अंदर ऐसी कोशिकाओं का जन्म होता है जो जैविक तौर पर आपको पूरे एक वर्ष तक जवान बना सकती हैं, तो 20 प्रतिशत तो बहुत बड़ी बात है।

साल 2022 की शुरुआत में किए गए दूसरे MitoPrime अध्ययन ने माइटोकॉन्ड्रियल संख्या में इस वृद्धि का वास्तविक प्रभाव साबित किया है। सेल की ऊर्जा और कार्यक्षमता में 15 प्रतिशत से भी अधिक वृद्धि देखी गई है (टेबल 5)। यह अधिक और इस्तेमाल करने योग्य, ऊर्जा आपकी कोशिकाओं को वो ताकत देती है जिसकी उन्हें आपको मजबूत, फिट और स्वस्थ रखने के लिए आवश्यकता होती है।

आप यह भी देख सकते हैं कि सामान्य परिस्थितियों में और ऑक्सीडेटिव तनाव के दौरान, MitoPrime ने सेल की ऊर्जा (टेबल 3) को कैसे बढ़ाया। यह घटना पहले सिर्फ युवाओं में देखी गई थी।

एक बात जिसका हमें अभी तक अंदाजा नहीं है, वह यह है कि MitoPrime के बायो-फंक्शन्स दूसरों के मुकाबले अधिक महत्वपूर्ण हैं या नहीं। हम जो जानते हैं, वह यह है कि MitoPrime के बायो-फंक्शन्स को मिलाकर स्वास्थ्य, जीवन की अवधि और जोश में वृद्धि होती है।

आप अपनी कोशिकाओं से बने हुए हैं

हकीकत यह है कि आपका पूरा शरीर आपकी कोशिकाओं से बना हुआ है। कोशिकाएं टिश्यू बनाती हैं। टिश्यू अंगों का निर्माण करते हैं। और अंग आपको बनाते हैं। लेकिन ऐसी कौन सी चीज है जो आपकी कोशिकाओं को स्वस्थ बनाती है? इसका जवाब है वही तत्व जिसकी MitoPrime रक्षा करता है और रीस्टोर करता है: आपका DNA, माइटोकॉन्ड्रिया और माइटोकॉन्ड्रियल DNA।

लेकिन शायद स्वास्थ्य और लंबी उम्र में सबसे रोमांचक खबर MitoPrime द्वारा "ज़ोंबी सेल्स" को रोकने और खत्म करने की अनोखी क्षमता हो सकती है। हाँ, यह वास्तव में होते हैं।

MitoPrime आपके सेल्स को "ज़ोंबी सेल्स" में बदलने से रोकता है

पिछले कुछ वर्षों में अंग स्वास्थ्य में उम्र बढ़ने को लेकर शोध में एक बड़ा बदलाव देखा गया है। आज की तारीख में, सेनोलिटिक्स और सेनोस्टैटिक्स नाम के कंपाउंड्स की पहचान करना है और/या उन्हें विकसित करने पर ध्यान केंद्रित करना है। हाँ, ये कुछ नए शब्द हैं जो बायोलॉजी के नए पहलू का ज़िक्र करते हैं। अगर आप Google पर जाकर "Senostatic" सर्च करेंगे, तो यह आपको बताएगा कि यह एक ऐसा एजेंट है जो आपके शरीर में मौजूद कोशिकाओं को नुकसान पहुंचने से रोकता है। "सेनोलिटिक" इससे भी एक कदम आगे है, और यह क्षतिग्रस्त कोशिकाओं को निकालकर स्वस्थ कोशिकाओं के लिए जगह बनाता है। यह कुछ इस तरह काम करता है।

हालाँकि हर एक रिसर्च साइंटिस्ट के पास अच्छा सेंस ऑफ ह्यूमर नहीं होता है। उदाहरण के तौर पर, डैमेज्ड सेल्स को जो उन्होंने नाम दिया था, ऐसे सेल जो कि मर चुके हैं या मरने वाले हैं, वो था, 'ज़ोंबी सेल्स'। इसका सही वैज्ञानिक शब्द है "सीनसेंट सेल्स"। ये ज़ॉम्बी सेल्स वो जगह ले लेते हैं जहां स्वस्थ, और पूरी तरह से काम करने वाले सेल्स होने चाहिए, लेकिन वे वहां नहीं होते। ठीक से काम नहीं करने वाले सेल्स, सेल्स की परफॉरमेंस पर बहुत बुरा असर डालते हैं। वे अनचाही स्वास्थ्य स्थितियां पैदा कर सकते हैं। असल समस्या यह है कि उम्र बढ़ने के साथ-साथ ये ज़ोंबी सेल्स दिल, दिमाग, किड़नी, लिवर, फेफड़े और त्वचा सहित सभी अंगों में जमा होते रहते हैं। यहां तक कि आँखों में भी। यही वजह है कि दवाई की कंपनियां सेनोस्टैटिक्स और सेनोलिटिक्स पर काफी पैसे खर्च कर रही हैं। यहां भी, MitoPrime एक अहम भूमिका निभाता है।

मार्च 2022 में किए गए एक अध्ययन के मुताबिक, MitoPrime को अत्यधिक प्रभावी सेनोस्टैटिक पाया गया था, जो कि सेल्स को ज़ोंबी सेल्स में बदलने से रोक रहा था। अतिरिक्त अध्ययनों से पता चला है कि MitoPrime एक वास्तविक सेनोलिटिक के रूप में कार्य करता है, ज़ोंबी सेल्स को हटाता है और उन्हें स्वस्थ स्किन सेल्स के साथ बदल देता है। हम जो जानते हैं वह यह है कि L-Ergothioneine (MitoPrime) स्वस्थ, पूरी तरह से काम कर रहे सेल्स की संख्या में 45 प्रतिशत तक की वृद्धि करता है। एक जीवंत स्वस्थ शरीर और मस्तिष्क बनाने और बनाए रखने के इच्छुक किसी भी व्यक्ति के लिए यह बेशक एक अच्छी खबर है।

3) MitoPrime त्वचा को जवान बनाता है और उसे निखारता है

मॉलिक्यूलर बिओलॉजिस्ट्स का कहना है कि जैसा आपका शरीर बाहर से दिखाई देता है, अधिकतर अंदर से भी आपका शरीर वैसा ही होता है। इसमें कोई हैरानी की बात नहीं है कि 12 साल की उम्र में आपके अंगों का स्वास्थ्य अच्छा होता है और साथ-साथ आपकी त्वचा भी अच्छी दिखती है। इसके विपरीत, 80 साल की उम्र में एक व्यक्ति में अंदर और बाहर दोनों तरफ से उम्र बढ़ने के लक्षण दिखाई देते हैं।

असल में, स्वास्थ्य, जवानी और दिखावट के बीच संबंध अब एक चिकित्सा तथ्य बन गया है। इसलिए, यह जानकर हैरान होने की कोई बात नहीं है कि MitoPrime का आपकी त्वचा पर अत्यधिक सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

आज की तारीख में ज़्यादातर लोग सनस्क्रीन का इस्तेमाल करते हैं। बेशक, सूरज की वजह से आपके चेहरे पर झुर्रियां दिखाई देती हैं। यह कोई नई खबर नहीं है। बल्कि नई खबर यह है कि सूरज क्यों और कैसे झुर्रियां का कारण बनता है। और आप नुकसान को कम से कम करने के लिए क्या कर सकते हैं। हाल ही में किए गए एक क्लीनिकल ट्रायल (नैदानिक परीक्षण) ने सटीक तंत्र की पहचान की है जिसके ज़रिए सूर्य की रौशनी और वायुजनित विषाक्त पदार्थों के कारण त्वचा झुर्रीदार हो जाती है, इसकी इलास्टिसिटी चली जाती है, और दिखने में अच्छी नहीं लगती। परिणाम, वास्तव में, चौंकाने वाले थे।

अब हमारे पास वैज्ञानिक प्रमाण है कि यह सब माइटोकॉन्ड्रियल DNA के नुकसान की वजह से होता है। 30 प्रतिशत तक का नुकसान।

ध्यान दें कि यह कोई "साधारण" (न्यूक्लेअर) DNA नहीं है जो आपके पूर्वजों की पहचान करता है। यह आपका माइटोकॉन्ड्रियल DNA है। यह गोलाकार शेप में होता है, न कि न्यूक्लेअर DNA के ट्विस्टेड डबल हेलिक्स की तरह। और न्यूक्लेअर DNA के विपरीत, माइटोकॉन्ड्रियल DNA को नुकसान पहुंचाया जा सकता है। खासकर धूप और आम वायुजनित विषाक्त पदार्थों से। यहां तक कि सनस्क्रीन भी त्वचा को इस नुकसान से पूरी तरह से बचा नहीं सकती है। यह घटना बहुत कम होती है, और इतनी फ्रीक्वेंसी के साथ होती है कि इसे "सामान्य विलोपन" के रूप में जाना जाता है।

आसान शब्दों में कहा जाए तो, इसका मतलब है कि mtDNA की ओरिजिनल साइज 30 प्रतिशत तक सिकुड़ जाती है। यानी कि अंगूर की साइज से सीधे नींबू तक पहुंच जाना। हालाँकि एंटीऑक्सिडेन्ट्स में माइटोकॉन्ड्रियल DNA की रक्षा में मदद करने के लिए "काबिलियत" है, लेकिन वे फिर भी ऐसा नहीं कर सकते हैं। क्योंकि एंटीऑक्सिडेंट के पास माइटोकॉन्ड्रिया में घुसने की क्षमता नहीं होती है। सिवाय एक के, L-Ergothioneine (MitoPrime)। ऐसा इसलिए है क्योंकि सिर्फ L-Ergothioneine (MitoPrime) में ही "न्यूट्रिएंट ट्रांसपॉर्टर्स" होते हैं जो माइटोकॉन्ड्रिया में काफी हद तक केंद्रित होते हैं। यह L-Ergothioneine की जैविक रूप से एक अनोखी विशेषता है। फिर कुछ समय में एक अच्छी खबर आई।

अप्रैल 2022 में किए गए एक अध्ययन ने साबित कर दिया था कि MitoPrime स्किन माइटोकॉन्ड्रियल DNA को सूरज की रोशनी और विषाक्त पदार्थों से 70 प्रतिशत से भी अधिक तक संरक्षित कर सकता है, जो कि अब 99 प्रतिशत (टेबल 6) तक पहुंच गया है। चार्ट में "कंट्रोल" वाली कॉलम पर ध्यान दें। "नॉन-इररेडिएटेड" कॉलम वो त्वचा दिखाती है जो सूरज की रोशनी के संपर्क में नहीं आई थी। "इररेडिएटेड" वाली कॉलम वो त्वचा दिखाती है जो सूरज की रोशनी और विषाक्त पदार्थों के संपर्क में आई थी। अब देखें कि कैसे MitoPrime ने त्वचा की रक्षा की, खुराक पर निर्भर तरीके से, 99 प्रतिशत तक। दूसरे शब्दों में कहा जाए तो, अधिक MitoPrime का मतलब है अधिक सुरक्षा, वो भी 99 प्रतिशत तक।

लेकिन वो बस त्वचा पर MitoPrime के प्रभाव दिखाई देने की शुरुआत थी

MitoPrime के बायो-एक्शन्स के वास्तविक विश्व परिणाम जनवरी 2022 में 35-75 उम्र की महिलाओं के साथ मानव नैदानिक परीक्षण (ह्यूमन क्लीनिकल टेस्टिंग) में देखे जा सकते हैं। इससे यह बात साबित होती है कि MitoPrime ने न केवल त्वचा की रक्षा की बल्कि उसने त्वचा पर हुए नुकसान को भी कम से कम कर दिया, कुछ मामलों में इसने 5 दशकों की क्षति को भी मिटा दिया।

• MitoPrime त्वचा की स्मूथनेस को 40 प्रतिशत तक बढ़ाता है (शिकन को गहराई में कम करता है)

• MitoPrime त्वचा की चमक को 39 प्रतिशत तक बढ़ाता है

• MitoPrime त्वचा की चमक को 44 प्रतिशत तक बढ़ाता है

• MitoPrime त्वचा की बनावट में 21 प्रतिशत तक सुधार करता है

• MitoPrime त्वचा की इलास्टिसिटी में 29 प्रतिशत तक सुधार करता है

• MitoPrime स्किन टोन को समान बनाने में 44 प्रतिशत तक सुधार करता है

• MitoPrime हाइड्रेशन को 36 प्रतिशत तक बढ़ाता है

• MitoPrime त्वचा की सूजन और अनचाहे स्किन बैक्टीरिया को कम करता है

चेहरे पर एक ऐसी जगह है जहां बेहतर त्वचा बनाना बेहद मुश्किल माना जाता था, वह है आँखों के आसपास वाली जगह। खासकर आँख के ऊपरी हिस्से में। लेकिन जब आप फिगर 1 देखेंगे, तो आप देखेंगे कि कुछ ही हफ्तों में MitoPrime ने कितने जबरदस्त परिणाम प्रदान किए हैं, वो भी बस कुछ ही हफ्तों में।

निष्कर्ष

प्रोडक्ट्स हमेशा आते-जाते रहेंगे। लेकिन सिद्ध किया गया हमेशा रहता है, जैसा कि "स्वास्थ्य और लंबी उम्र वाले विटामिन," MitoPrime की यह नई खोज हमेशा हमारे साथ रहेगी।

हालाँकि MitoPrime रिसर्च टीम ने अपनी ऐतिहासिक खोज के बाद बहुत प्रेरित महसूस किया होगा, लेकिन जब तक कि दो महत्वपूर्ण चीजें नहीं हो जाती, तब तक वे पूरी तरह से संतुष्ट नहीं हो सकते हैं। 1) पहली घटना इस बात का सबूत है कि इस खोज का दुनिया भर में वास्तविक उपयोग किया जा सकता है। MitoPrime के साथ, मानव नैदानिक परीक्षणों (ह्यूमन क्लीनिकल ट्रायल्स) के परिणामों से पहली घटना सफलतापूर्वक पूरी हो चुकी है। 2) दूसरी घटना पूरे वैज्ञानिक समुदाय द्वारा मान्यता और कानूनी पेशे द्वारा अनुमोदन प्राप्त करना है। और ज़ाहिर है कि यह सिर्फ पेटेंट के ज़रिए ही पूरा किया जा सकता है। पिछले साल, वैज्ञानिक और कानूनी समीक्षा बोर्ड ने MitoPrime के लिए कई पेटेंट फाइलिंग पर स्वीकृति दी थी। अभी हाल ही में, स्वास्थ्य, लंबी उम्र, तंदुरुस्ती और देखाव से संबंधित तीन और पेटेंट फाइल किए गए हैं। यह दर्शाता है कि खोज न केवल महत्वपूर्ण और सिद्ध है, बल्कि यह वास्तव में नई है, पहले कभी भी नहीं देखी गई है, अप्रत्याशित है, और, कम से कम 17 वर्षों तक इसकी कोई भी नकल नहीं कर सकता है।

NNB बायोटेक की पेटेंट फाइलिंग में अब यह सब शामिल हैं: "मनुष्यों में उम्र बढ़ने के संकेतों को उलटना," "मानव सहित मैमल्स में उम्र बढ़ने के संकेतों में सुधार करना," "मानव कोशिकाओं को दोबारा से जवान बनाना," "DNA रिपेयर के रास्तों को अपग्रेड करना," "लंबे समय से हो रही सूजन को कम करना," "आँखों के स्वास्थ्य में सुधार करना," और "इम्यून रेस्पोंस को व्यवस्थित करना।"

चाहे आप इसे जो मर्जी कह लें, जैसे कि: 'लंबी आयु वाला विटामिन,' 'स्वास्थ्य और लंबी उम्र वाला विटामिन,' या 'दोबारा से जवान बनाने वाला तत्व,' लेकिन एक बात तो तय है, कि MitoPrime ने ह्यूमन साइकोलॉजी में एक नए दौर की शुरुआत की है, और अब यहां से पीछे मुड़ने का तो सवाल ही नहीं उठता।

नीचे MitoPrime के बारे में दी गई अधिक जानकारी देखें।

MitoPrime का परिचय

MitoPrime 100% प्राकृतिक है, 100% सुरक्षित और रंगहीन है, स्वादहीन और बेस्वाद है।

नैतिक रूप से निर्मित

• कोई जानवर के भाग नहीं

• कोई जानवर पर परीक्षण नहीं

• कोई समुद्री जीव नहीं

• ग्रीन स्टैंडर्ड्स

• उचित श्रम अभ्यास

सर्टीफिकेशन्स

• GMP

• ISO

• 100% शाकाहारी

• HACCP

• NSF

• 100% एलर्जी से मुक्त

सम्मानपूर्वक तैयार किया गया

शामिल नहीं है:

• सोया

• डेरी

• अंडा

• मकई

• गेहूं

• ग्लूटन

• मछली/शेलफिश

• बादाम आदि / ट्री नट्स

• चीनी

• कैफीन

• आर्टिफिशल कलर्स

• आर्टिफिशल फ्लेवरिंग्स

• आर्टिफिशल प्रिज़र्वेटिव्स

सोच समझकर बनाया गया

• नॉन-GMO

• 100% कुदरती

• 100% शाकाहारी

• 100% ग्लूटन-फ्री

• 100% एलर्जेन-फ्री

• 100% लैक्टोज-फ्री

• 100% टॉक्सिन-फ्री

• 100% हार्मोन-फ्री

MitoPrime के बारे में अध्ययन

nDNA और mtDNA सहित बॉडी-ग्लोबल सेल्स की सुरक्षा और उन्हें ठीक करने की अपनी क्षमता के साथ, MitoPrime अब वो स्वास्थ्य और लंबी उम्र प्रदान कर सकता है जो पहले बिल्कुल नामुमकिन था। दुनिया के सबसे बड़े और सबसे दिग्गज नैदानिक अनुसंधान संगठनों (क्लीनिकल रिसर्च ऑर्गेनाइजेशंस) द्वारा किए गए प्रयोग के परिणाम पर गौर फरमाएं।

स्वास्थ्य और लंबी उम्र के परिणाम

त्वचा से संबंधित परिणाम

जैव उपलब्धता (बायो-अवेलेबिलिटी) संदर्भ

विटामिन C:

https://ods.od.nih.gov/factsheets/VitaminC-HealthProfessional/#:~:text=Approximately%2070%25%E2%80%9390%25%20of,in%20the%20urine%20%5B4%5D.

"लगभग 70 प्रतिशत विटामिन C 30-180 मिलीग्राम / दिन के मध्यम सेवन में अब्सॉर्ब होता है। हालाँकि, 1 ग्राम/दिन के ऊपर की खुराक पर, अब्सॉर्ब्शन 50 प्रतिशत से भी कम हो जाता है और अब्सॉर्ब्ड, अन-मेटाबोलाइज़्ड एस्कॉर्बिक एसिड यूरिन (पेशाब) के ज़रिए निकल जाता है।

https://www.sciencedirect.com/topics/pharmacology-toxicology-and-pharmaceutical-science/ascorbic-acid

"लगभग 70 प्रतिशत तक विटामिन C अब्सॉर्ब होता है"

CoQ10:

https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC7146408/

"मौखिक रूप से लेने पर, कोएंजाइम Q10 सीमित जैव उपलब्धता के लिए जाना जाता है"

(चार्ट और ग्राफ देखें)

https://www.tandfonline.com/doi/full/10.3109/10717544.2014.993747

"क्रिस्टलाइन CoQ10 (0.44%) के मामले में पूर्ण जैव उपलब्धता (बायो-अवेलेबिलिटी) बेहद कम थी, लेकिन मौखिक रूप से s-SEDDS लेने पर इसमें 2.2% तक सुधार देखा गया"

एस्टैक्सैन्थिन:

https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6396763/#:~:text=dietary%20supplement%20industry.-,Astaxanthin%20is%20a%20lipid%2Dsoluble%20molecule%20with%20low%20oral%20bioavailability,limitations%20in%20the%20gastrointestinal%20fluids.

"एस्टैक्सैन्थिन कम मौखिक जैवउपलब्धता (ओरल बायो-अवेलेबिलिटी) वाला एक लिपिड-सॉल्युबल मॉलिक्यूल है, जो इसकी चिकित्सीय क्षमता को सीमित कर देता है। गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल फ्लूइड्स में डिसॉलूशन सीमाओं के कारण इसकी मौखिक जैवउपलब्धता (ओरल बायो-अवेलेबिलिटी) कम है।"

(चार्ट और ग्राफ देखें)

https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/12885395/

"एस्टैक्सैन्थिन एक फूड सप्लीमेंट के रूप में भी उपलब्ध है, लेकिन, अन्य कैरोटीनॉयड्स की तरह, यह बहुत ही लिपोफिलिक कंपाउंड है और इसकी मौखिक जैव उपलब्धता (ओरल बायो-अवेलेबिलिटी) कम है

कैटेचिन्स:

https://academic.oup.com/jn/article/131/6/1731/4686899

"प्लाज्मा, यूरिन (पेशाब) और मल में लगभग 1.68% इंजेस्टेड कैटेचिन मौजूद थे, और गैलेटेड कैटेचिन्स की स्पष्ट जैवउपलब्धता (बायो-अवेलेबिलिटी) थी..."

(चार्ट और ग्राफ देखें)

https://aacrjournals.org/clincancerres/article/11/12/4627/185571/Effects-of-Dosing-Condition-on-the-Oral

"मुख्य हरी चाय के घटक, और हरी चाय के कैटेचिन की मौखिक जैवउपलब्धता (बायो-आवैलाबिलिटी) कम होती है, जिसके परिणामस्वरूप मनुष्यों में प्रणालीगत कैटेचिन का स्तर इन विट्रो सिस्टम में निर्धारित प्रभावी सांद्रता से कई गुना कम है।"

पॉलीफेनोल्स:

(और फ्लेवोनोइड्स)

https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2551754/

कमेंट्री: फ्लेवोनोइड्स और पॉलीफेनोल्स की जैवउपलब्धता (बायो-आवैलाबिलिटी) https://www.ncbi.nlm.nih.gov › articles › PMC2551754

"पॉलीफेनोल्स के जैवउपलब्ध (बायो-अवेलेबल) होने के लिए, नीचे दी गई बाधाओं को दूर किया जाना ज़रूरी है: सोल्युबिलिटी, परमिअबिलिटी, मेटाबोलिज्म, एक्सक्रीशन, टारगेट टिश्यू अप-टेक और..."

"विशिष्ट पॉलीफेनोल्स में 10 प्रतिशत या उससे कम की मौखिक जैव उपलब्धता (ज़्यादातर जानवरों में) होती है, और उनकी रेंज 2% से लेकर 20% तक होती है"

फ्लेवोनोइड्स:

https://www.sciencedirect.com/science/article/pii/B9780123984562000372

"आंतों के स्तर पर व्यापक मेटाबोलिज्म और समग्र रूप से कम परमिअबिलिटी होने की वजह से फ्लेवोनोइड जैव-उपलब्धता (बायो-अवेलेबिलिटी) बहुत कम है। आइसोफ्लेवोन्स, उसके बाद कैटेचिन, ..."

फ्लेवोनोइड्स के पास सीमित जैव उपलब्धता (बायो-अवेलेबिलिटी) होती है, और फलस्वरूप उनका प्लाज्मा कंसंट्रेशन कम होता है।

विटामिन E:

https://academic.oup.com/nutritionreviews/article/71/6/319/1881526

मनुष्यों में विटामिन E की जैव उपलब्धता: एक अपडेट

"विटामिन E अवशोषण की दक्षता व्यापक रूप से परिवर्तनशील है, हालाँकि सटीक रूप से ज्ञात नहीं है (यानी कि, 10 प्रतिशत से लेकर 79 प्रतिशत के बीच"

https://link.springer.com/chapter/10.1007/978-3-030-05315-4_4#:~:text=Vitamin%20E%20has%20a%20high,enhanced%20by% "विटामिन E में ca की उच्च जैवउपलब्धता होती है। यह 50-80% और डाइटरी फैट्स के सामान्य अवशोषण मार्ग का अनुसरण करता है। डाइटरी लिपिड्स की अनुपस्थिति में भी विटामिन E अवशोषित हो जाता है, लेकिन स्मॉल इंटस्टाइन में इसके अवशोषण को एक साथ फैट के सेवन से बढ़ाया जा सकता है।"

20एक साथ%20फैट%20खपत।

अल्फा लिपोइक एसिड:

https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6723188/#:~:text=Data%20suggests%20that%20ALA%20has,has%20greatly%20improved%20ALA%20bioavailability.

चिकित्सीय प्रयोजनों के लिए α-लिपोइक एसिड के इस्तेमाल पर जानकारी

"डेटा से पता चलता है कि ALA के पास कम उम्र और जैवउपलब्धता (लगभग 30%) होती है जो इसके यकृत क्षरण, कम सोल्युबिलिटी और साथ ही पेट में अस्थिरता से उत्पन्न होती है।"

बीटालैंस:

https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5346430/

"ये आंकड़ों बताते हैं कि BTJ और BF में काफी फाइटोन्यूट्रिएंट्स होते हैं और प्लाज्मा NOx जैव उपलब्धता बढ़ाने का उपयोगी साधन प्रदान कर सकते हैं। हालाँकि, चुकंदर में प्रमुख बीटालैन, बीटानिन ने प्लाज्मा में खराब जैवउपलब्धता दिखाई।"

(चार्ट और ग्राफ देखें)

https//mdpi-res.com

https://mdpi-res.com › foods › foods-10-01314-v3PDF

स्वास्थ्य और बीमारी में नाइट्रेट और बीटालैन की भूमिका

"बीटालैंस की मौखिक जैवउपलब्धता अपेक्षाकृत कम मानी जाती है..."

https://d-nb.info/1129061116/34

नाइट्रेट और बीटानिन की प्लाज्मा जैव-उपलब्धता

"निष्कर्ष, यह आंकड़े बताते हैं कि BTJ और BF में भरपूर मात्रा में फाइटोन्यूट्रिएंट्स होता है और यह प्लाज्मा NOx जैव उपलब्धता बढ़ाने का एक उपयोगी साधन प्रदान कर सकते हैं। हालाँकि, चुकंदर में प्रमुख बीटालैन, बीटानिन ने प्लाज्मा में खराब जैवउपलब्धता दिखाई।"

डिस्क्लेमर: यह लेख अन्य मीडिया से पुन: पेश किया गया है। रिप्रिंट करने का उद्देश्य अधिक जानकारी देना है। इसका मतलब यह नहीं है कि यह वेबसाइट अपने विचारों से सहमत है और इसकी प्रामाणिकता के लिए जिम्मेदार है, और कोई कानूनी जिम्मेदारी वहन नहीं करती है। इस साइट पर सभी संसाधन इंटरनेट पर एकत्र किए गए हैं। साझा करने का उद्देश्य केवल सभी के सीखने और संदर्भ के लिए है। यदि कॉपीराइट या बौद्धिक संपदा उल्लंघन है, तो कृपया हमें एक संदेश छोड़ दें।